Business

योगी सरकार किसानों के लिए कृषि कुंभ 2.0 लगाएगी, जानिए यह क्या है और कैसे अन्नदाता इससे होंगे लाभान्वित| Yogi government will organize Krishi Kumbh 2.0 for farmers, know what it is and how farmers will

[ad_1]

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ- India TV Paisa
Photo:FILE मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ

उत्तर प्रदेश के किसानों की खुशहाली के लिए योगी सरकार लगातार काम कर रही है। बीते कुछ सालों में कई बेहतरीन योजना शुरू की गई है, जिससे प्रदेश के किसानों की आय तेजी से बढ़ी है। इसी कड़ी में योगी सरकार कृषि कुंभ 2.0 का आयोजन करने जा रही है।  इसके इस साल दिसंबर के दूसरे सप्ताह में आयोजित होने की संभावना है। साल 2018 में पहला कृषि कुंभ आयोजित कर सरकार ने देशभर में सराहना बटोरी थी। बता दें कि सम्मेलन का मुख्य कार्यक्रम लखनऊ के भारतीय गन्ना अनुसंधान संस्थान में होगा और नई दिल्ली में एक कर्टेन रेजर का भी आयोजन किया जाएगा। 

किसानों को नई तकनीक से अवगत कराया जाएगा 

राज्य सरकार के निर्देशों के अनुसार, विभिन्न विभाग/संगठन एकीकृत खेती, ड्रोन के उपयोग, बागवानी क्षेत्र की उपलब्धियों, पशु संरक्षण, रेशम उद्योग की प्रगति सहित कई विषयों पर विशेषज्ञों की भागीदारी के साथ सेमिनार, प्रदर्शनियों, कृषि वानिकी, फूलों की खेती, कृषि उद्यमिता, कृषि विविधीकरण, कृषि स्टार्टअप, डिजिटल कृषि, आदि का आयोजन करेंगे। ज्वार, बाजरा, मडुआ, सांवा, कोदो, काकुन, कुटकी, छेना, कुट्टू और रामदाना जैसे स्वादिष्ट और पौष्टिक बाजरा की विशेषताओं से परिचित कराने के लिए अक्टूबर में राज्य-स्तरीय कार्यशाला का आयोजन किया जाएगा।

दुनिया के बाजार से जुड़ सकेंगे यूपी के किसान

सरकारी प्रवक्ता के मुताबिक, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि प्रदेश के हर जिले और देश के हर राज्य को कृषि क्षेत्र में हो रही सर्वोत्तम प्रथाओं को प्रदर्शित करने वाले कार्यक्रम में भाग लेना चाहिए। कृषि कुंभ हमारे किसानों को तकनीकी दृष्टि से और अधिक समृद्ध बनाने में सक्षम बनाएगा। यह कार्यक्रम दुनिया भर में कृषि क्षेत्र में बीज से लेकर बाजार तक अपनाई जा रही प्रौद्योगिकी और इनोवेशन के बारे में जानकारी प्रदान करेगा। मुख्यमंत्री ने कहा कि कृषि कुंभ के दूसरे एडिशन में 2 लाख से अधिक किसानों, 10 भागीदार देशों और 500 से अधिक राष्ट्रीय, अंतर्राष्ट्रीय कंपनियों और संस्थानों के भाग लेने की संभावना है। सीएम ने कहा कि केंद्रीय मंत्रियों, कृषि व संबंधित क्षेत्रों की प्रतिष्ठित राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय कंपनियों/संस्थानों, सभी कृषि विश्वविद्यालयों, कृषि विज्ञान केंद्रों और प्रगतिशील किसानों को इस कार्यक्रम में भाग लेने के लिए आमंत्रित किया जाना चाहिए। सम्मेलन के वैश्विक स्वरूप पर चर्चा करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि जापान, इजराइल, क्रोएशिया, पोलैंड, पेरू, जर्मनी, अमेरिका, फिलीपींस, दक्षिण कोरिया और इंडोनेशिया जैसे देशों में खेती से संबंधित कई नवीन कार्य किये जा रहे हैं।

ये भी जानकारी साझा की जाएगी

मुख्यमंत्री ने कहा कि गौ (गाय) आधारित प्राकृतिक खेती, जलवायु परिवर्तन की चुनौतियों से निपटने की तैयारी, खाद्यान्न को बढ़ावा, एफपीओ आधारित व्यवसाय और खेती की लागत कम करने के साथ-साथ पराली प्रबंधन, राज्य को 1 ट्रिलियन डॉलर की अर्थव्यवस्था बनाने में मदद करेगी। योगी आदित्यनाथ के निर्देशानुसार उत्तर प्रदेश श्री अन्न (बाजरा) पुनरुद्धार कार्यक्रम के तहत आयोजित होने वाली इस कार्यशाला में बाजरा के विभिन्न उत्पादों/व्यंजनों का प्रदर्शन किया जाएगा। बाजरा पर काम करने वाले एफपीओ, उद्यमियों और किसानों को सम्मानित किया जाएगा। बाजरा पर इस विशेष कार्यशाला में जन प्रतिनिधियों के साथ-साथ होटल एसोसिएशन/शेफ, स्कूली बच्चों, एफपीओ आदि को भी आमंत्रित किया जाएगा।

इनपुट: आईएएनएस

 

Latest Business News

[ad_2]

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *